Milestone's Literature

नवम्बर 10, 2015

Happy Diwali-2015

Filed under: Buddha,Diwali,Education,Philosophy — Milestone Education Society (Regd.) Pehowa @ 3:47 अपराह्न

Screenshot_2014-11-25-08-29-49-1

Happy Diwali-2015

Greetings of Peace from SPPIS Haryana

May this Diwali gets more happiness and peace in your life.

I am sharing a relevant article on this occasion, must read:

Research article written by famous historian Dr. Rahul Raj of BHU in 2014.

दीपावली अथवा ‘दीपदानोत्सव’ की ऐतिहासिकता

लेखक-

डॉ० राहुल राज

एम०ए० (स्वर्णपदक प्राप्त)

असिस्टेंट प्रोफेसर,

प्राचीन भारतीय इतिहास संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग,

बी०एच०यू०, वाराणसी (उ०प्र०)

ऐतिहासिक दृष्टि से देखा जाय तो ‘दीपावली’ को ‘दीपदानोत्सव’ नाम से जाना जाता था और यह वस्तुतः एक बौद्ध पर्व है जिसका प्राचीनतम वर्णन तृतीय शती ईसवी के उत्तर भारतीय बौद्ध ग्रन्थ ‘अशोकावदान’ तथा पांचवीं शती ईस्वी के सिंहली बौद्ध ग्रन्थ ‘महावंस’ में प्राप्त होता है।

सातवीं शती में सम्राट हर्षवर्धन ने अपनी नृत्यनाटिका ‘नागानन्द’ में इस पर्व को ‘दीपप्रतिपदोत्सव’ कहा है। कालान्तर में इस पर्व का वर्णन पूर्णतः परिवर्तित रूप में ‘पद्म पुराण’ तथा ‘स्कन्द पुराण’ में प्राप्त होता है जो कि सातवीं से बारहवीं शती ईसवी के मध्य की कृतियाँ हैं।

तृतीय शती ईसा पूर्व की सिंहली बौध्द ‘अट्ठकथाओं’ पर आधारित ‘महावंस’ पांचवीं शती ईस्वी में भिक्खु महाथेर महानाम द्वारा रचित महत्त्वपूर्ण ग्रन्थ है। इसके अनुसार बुद्धत्व की प्राप्ति के बाद तथागत बुद्ध अपने पिता शुद्धोदन के आग्रह पर पहली बार कार्तिक अमावस्या के दिन कपिलवस्तु पधारे थे।

कपिलवस्तु नगरवासी अपने प्रिय राजकुमार, जो अब बुद्धत्व प्राप्त करके ‘सम्यक सम्बुद्ध’ बन चुका था, को देख भावविभोर हो उठे। सभी ने बुद्ध से कल्याणकारी धम्म के मार्गों को जाना तथा बुद्धा की शरण में आ गए। रात्रि को बुद्ध के स्वागत में अमावस्या-रुपी अज्ञान के घनघोर अन्धकार तो प्रदीप-रुपी धम्म के प्रकाश से नष्ट करनें के सांकेतिक उपक्रम में नगरवासियों नें कपिलवस्तु को दीपों से सजाया था।

किन्तु ‘दीपदानोत्सव’ को विधिवत रूप से प्रतिवर्ष मनाना 258 ईसा पूर्व से प्रारम्भ हुआ जब ‘देवनामप्रिय प्रियदर्शी’ सम्राट अशोक महान ने अपने सम्पूर्ण साम्राज्य, जो कि भारत के अलावा उसके बाहर वर्तमान अफ़ग़ानिस्तान और मध्य एशिया तक विस्तृत था, में बनवाए गए चौरासी हज़ार विहार, स्तूप और चैत्यों को दीपमाला एवं पुष्पमाला से अलंकृत करवाकर उनकी पूजा की थी।

‘थेरगाथा’ के अनुसार तथागत बुद्ध ने अपने जीवनकाल में बयासी हज़ार उपदेश दिये थे। अन्य दो हजार उपदेश बुद्ध के शिष्यों द्वारा बुद्ध के उपदेशों की व्याख्या स्वरुप दिए गए थे। इस प्रकार भिक्खु आनंद द्वारा संकलित प्रारम्भिक ‘धम्मपिटक’ (जो कालान्तर में ‘सुत्त’ तथा ‘अभिधम्म’ में विभाजित हुई) में धम्मसुत्तों की संख्या चौरासी हज़ार थी। अशोक महान ने उन्हीं चौरासी हज़ार बुद्धवचनों के प्रतिक रूप में चौरासी हज़ार विहार, स्तूप और चैत्यों का निर्माण करवाया था। पाटलिपुत्र का ‘अशोकाराम’ उन्होंने स्वयं अपने निर्देशन में बनवाया था। इस ऐतिहासिक तथ्य की पुष्टि ‘दिव्यावदान’ नामक ग्रन्थ के उपग्रन्थ ‘अशोकावदान’ से भी हो जाती है जो कि मथुरा के भिक्षुओं द्वारा द्वितीय शती ईस्वी में लिखित रचना है और जिसे तृतीय शती ईस्वी में फाहियान ने चीनी भाषा में अनूदित किया था।

पूर्व मध्यकाल में हिन्दू धर्म के पुनरुत्थान के साथ इस बौद्ध पर्व में मूल तथ्य के स्थान पर अनेक नवीन कथानक जोड़कर इसे हिन्दू धर्म में सम्मिलित कर लिया गया तथा शीघ्र ही यह हिन्दुओं का प्रचलित त्यौहार बन गया।

सन्दर्भ –

K.R. Norman (Tr.) ‘Elders Verses’ translation of Theragatha,Pali Text Society, Oxford,1995, verse- 1022

T.W. Rhys Davids (1901), ‘Ashoka and the Buddha Relics’, Journal of the Royal Asiatic Society, Cambridge University Press, UK, pp.397-410

John S. Strong (1989), ‘The Legend of King Aśoka: A Study and Translation of the Aśokāvadāna’, Motilal Banarsidass, New Delhi ISBN 978-81-208-0616-0

John S. Strong (2004), ‘The Relics of the Buddha’, Motilal Banarsidass, New Delhi, ISBN 978-81-208-3139-1, p.136.

Link:

https://web.facebook.com/sandeepkumarvdo/posts/1688493738063700?fref=nf&pnref=story

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: